मंगल को भारत बंद, शुक्र को डॉक्टरों की हड़ताल, रखें अपना ध्यान

0
1269

Patna: अगर आप अगले हफ्ते सरकारी अस्पतालों में स्वास्थ्य जांच कराना चाहते हैं तो प्लान बदल दीजिए। इस सप्ताह 4 दिन मरीजों का स्वास्थ्य परीक्षण नहीं हो पाएगा। कृषि बिल के खिलाफ 8 दिसंबर मंगलवार को भारत बंद है। कहीं-कोई गाड़ी नहीं चलेगी, इसलिए किसी अस्पताल में मरीज नहीं पहुंच पाएंगे। बुधवार, गुरुवार को कोई दिक्क्त नहीं है। 11 दिसंबर शुक्रवार को IMA के आह्वान पर देश भर के डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे। आयुर्वेद के चिकित्सकों को सर्जरी करने की अनुमति देने के खिलाफ वे हड़ताल कर रहे हैं। शनिवार को आधिकारिक तौर पर अस्पतालों में OPD तो चालू रहती है, लेकिन वीकेंड होने के कारण ज्यादातर विभागों में डॉक्टर नदारद रहते हैं। इसलिए शनिवार को भी डॉक्टर से परामर्श लेना मुश्किल है। अगले दिन रविवार को OPD बंद रहती है, इसलिए इस दिन भी आप डॉक्टर से नहीं देखवा पाएंगे।

इमर्जेंसी मरीजों का क्या होगा

IMA के आह्वान पर 11 दिसंबर को देश भर में होने वाली डॉक्टरों की हड़ताल में सिर्फ OPD को बंद रखने का फैसला लिया गया है। इमर्जेंसी को किसी भी तरह से बाधित नहीं होने दिया जाएगा। इमर्जेंसी के मरीज अस्पतालों में भर्ती किये जा सकेंगे। जो पहले से भर्ती हैं, उनके इलाज में भी कोई दिक्क्त नहीं आएगी।

कोरोना के मरीजों का क्या होगा

कोरोना की रोकथाम को लेकर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से गंभीर है। ऐसे में कोरोना के मरीजों पर इस हड़ताल का कोई भी असर नहीं पड़ने जा रहा है। आम दिनों की तरह ही पूरी सक्रियता से कोरोना के मरीजों की जांच और इलाज की प्रक्रिया जारी रहेगी।

OPD के मरीजों के लिए क्या होगा विकल्प

इस हफ्ते 4 दिन अस्पतालों की OPD चार दिन बाधित रह सकती है, इसलिए बेहतर होगा कि 9 और 10 दिसंबर यानी बुधवार और गुरुवार को ही स्वास्थ्य जांच करवा लें। डायबिटीज और ब्लड प्रेशर के मरीज पहले ही दवा का शिड्यूल करा लें। कोई पैथेलॉजी जांच करानी है तो वह भी पहले ही करा लें।

क्यों हड़ताल के लिए मजबूर हुए हैं डॉक्टर

IMA बिहार के पूर्व अध्यक्ष डॉ सच्चिदानंद कुमार ने कहा है कि मिक्सोपैथी ऑफ एनएमसी यानि आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी करने का अधिकार देना गलत है। सर्जरी के लिए MS की पढ़ाई जरूरी है और इसके बाद भी डॉक्टर गंभीर ऑपरेशन नहीं करता है। ऐसे में आयुर्वेद के डॉक्टरों को सर्जरी करने की छूट देकर समाज के लिए बड़ा खतरा पैदा किया जा रहा है। उन्होंने बिहार के डॉक्टरों से अपील की है कि वह इसका हर स्तर पर विरोध करें। उनका कहना है कि 8 दिसंबर को सोशल मीडिया प्लेटफार्मों से विरोध होगा, जो 11 को व्यापक रूप लेगा। 8 दिसंबर को डॉक्टर अप्रॉन पहनेंगे और स्टेथोस्कोप टांग कर फोटो लेंगे और विरोध में सोशल मीडिया पर पोस्ट करेंगे। इसके साथ ही वह काम करते हुए दिन में 12 बजे से दोपहर 2 बजे तक ऐसा करेंगे।

सुबह 6 से शाम 6 बजे तक डॉक्टर नहीं करेंगे काम

IMA बिहार के पूर्व अध्यक्ष डॉ सच्चिदानंद प्रसाद का कहना है कि 11 दिसंबर को प्रदेश के सभी डॉक्टर हड़ताल पर रहेंगे। मेडिकल सेवा को शट्डाउन कर दिया जाएगा। इस दिन सिर्फ कोरोना की जांच करने के साथ कोरोना के मरीजों का इलाज होगा। इसके अलावा इमरजेंसी सेवा को चलने दिया जाएगा, बाकी सभी मेडिकल सेवाओं को ठप रखा जाएगा। सुबह 6 से शाम को 6 बजे तक डॉक्टर पूरी तरह से हड़ताल पर रहेंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here